Tuesday, December 15, 2009

जीना है कैसे मुझको


जीना है कैसे  मुझको तन्हा  न  फैसला कर

ख़ुशियों से राय ले ले ग़म से भी मशवरा कर


दुनिया की भीड़ में मैं गुम हो के रह गया हूं

ऎ  आईने  मुझे  तू  माज़ी   ज़रा अता कर


थक कर न बैठ जाना राहों में ऎ मुसाफिर

मंज़िल तुझे मिलेगी चलने का हौसला कर


यादों के गुलिस्तां से ख़शबू सी आ रही है

क्यों  दूर  हो गये  तुम मेरे  क़रीब आ कर


कर लेना लाख कोशिश तुम भूलने की मुझको

याद  आयेंगे  तुम्हें  हम  देखो  ज़रा भुलाकर

--------------------------------------------------------------------------------


माज़ी - बीता हुआ कल, इतिहास

2 comments:

मनोज कुमार said...

थक कर न बैठ जाना राहों में ऎ मुसाफिर

मंज़िल तुझे मिलेगी चलने का हौसला कर
ग़ज़ल पूरी अच्छी लगी।

अमृत पाल सिंह said...

कर लेना लाख कोशिश तुम भूलने की मुझको



याद आयेंगे तुम्हें हम देखो ज़रा भुलाकर


खूब।

Post a Comment

महफ़िल में आपका इस्तक़बाल है।